यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने जारी की नई एडवाइजरी, रूस ने खारकीव से न‍िकलने के ल‍िए भारतीयों को 6 घंटे का समय दिया

0
297

यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने खारकीव में भारतीय नागरिकों हत के लिए नई एडवाइजरी जारी की है। भारतीय नागरिकों को खारकीव तुरंत छोड़ देना चाहिए, जल्द से जल्द पिसोचिन, बेजलुडोव्का और बाबे के लिए आगे बढ़ें। उन्हें आज 18.00 बजे (यूक्रेनी समय के अनुसार) तक इन बस्तियों तक पहुंचना होगा। यूक्रेन से भारतीय नागरिकों की निकासी के लिए वायु सेना ने अब तक चार उड़ानें शुरू की हैं।

रूस ने भारतीयों को निकलने के लिए 6 घंटे का समय दिया

भारत के अनुरोध के बाद रूस ने सुरक्षित मार्ग का प्रस्ताव पर दिया। रूसी खारकीव पर कब्जा करने में थोड़ी देरी नहीं करना चाहते हैं, इसलिए केवल छह घंटे के टाइम स्‍लाट पर सहमति बनी। सभी भारतीयों के लिए समय रहते खाली करना कठिन प्रतीत होता है। कुछ रिपोर्टों के अनुसार, रूसी पैराट्रूपर्स खारकीव में तीन या चार अलग-अलग स्थानों पर उतरे हैं और इन एन्क्लेवों के नियंत्रण में हैं। भारतीयों के लिए अगला सबसे अच्छा दांव इन क्षेत्रों में जाना होगा, जहां वे अपेक्षाकृत सुरक्षित हो सकते हैं।

खारकीव में तनाव बढ़ने की आशंकाएं

ज्ञात हो कि यूक्रेन और रूस के बीच तकरार अब भी जारी है। रूस की सेना यूक्रेन की राजधानी कीव पर लगातार बमबारी कर रही है। मिसाइलें दाग रही है। कीव में आम नागरिकों से बंकरों या घर के तहखानों में चले जाने के लिए कहा गया है। जानकारी के मुताबिक, खारकीव शहर जहां अबतक रूसी सैनिक एयरस्ट्राइक कर रहे थे, वहां रूस की लैंडिंग फोर्स उतर गई है। इसी के साथ ही हमले तेज कर दिए गए हैं। जब से रूस ने यूक्रेन पर हमला किया है, तब से वहां हजारों की संख्या में लोग फंसे हैं, जिसमें काफी तादाद भारतीयों की भी है। जिन्हें निकालने के लिए भारत का आपरेशन गंगा जारी है।

भारत का निकासी अभियान जारी

‘आपरेशन गंगा’ के तहत भारतीयों को रेस्क्यू करने के लिये गई नौवीं उड़ान यूक्रेन में फंसे 218 भारतीयों को रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट से लेकर मंगलवार देर रात नयी दिल्ली पहुंची है। नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भी बुखारेस्ट एयरपोर्ट पहुंच गए हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने एयरपोर्ट पहुंचकर भारतीय नागरिकों और छात्रों से बातचीत की है। गौरतलब है कि खारकीव यूक्रेन का दूसरा सबसे बड़ा शहर है और यहां रूसी सेना लगातार हमले कर रही है। यहीं रूसी हमले के दौरान भारतीय छात्र नवीन की मौत भी हुई थी, वो कर्नाटक का रहने वाला था। भारतीय दूतावास की ओर से सुरक्षा के मद्देनजर पहले भी एडवाइजरी जारी की जा चुकी हैं।यूक्रेन में फंसे भारतीयों की सुरक्षित निकसी के लिए केंद्र सरकार आपरेशन गंगा का संचालन कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here